Live Awesomely

Poem found on Facebook

Leave a comment

तू जिंदगी को जी,
उसे समझने की कोशिश न कर….
सुन्दर सपनो के ताने बाने बुन,
उसमे उलझने की कोशिश न कर….
चलते वक़्त के साथ तू भी चल,
उसमे सिमटने की कोशिश न कर….
अपने हाथो को फैला, खुल कर साँस ले,
अंदर ही अंदर घुटने की कोशिश न कर….
मन में चल रहे युद्ध को विराम दे,
खामख्वाह खुद से लड़ने की कोशिश न कर….
कुछ बाते भगवान् पर छोड़ दे,
सब कुछ खुद सुलझाने की कोशिश न कर….
जो मिल गया उसी में खुश रह,
जो सकून छीन ले वो पाने की कोशिश न कर….
रास्ते की सुंदरता का लुत्फ़ उठा,
मंजिल पर जल्दी पहुचने की कोशिश न कर !

Advertisements

Author: panwar_arvind

Indian, Tech Enthusiast, Entrepreneur, Programmer, Nature Lover.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s